You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग

Start Date: 27-03-2019
End Date: 24-02-2022

छत्तीसगढ़ी को राज्य की राजभाषा का दर्जा प्रदान कर छत्तीसगढ़ी के ...

See details Hide details

छत्तीसगढ़ी को राज्य की राजभाषा का दर्जा प्रदान कर छत्तीसगढ़ी के प्रचलन, विकास एवं राजकाज में उपयोग हेतु समस्त उपाय करने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा 'छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग' की स्थापना की गई है। छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ साहित्यकारों को उनकी छत्तीसगढ़ी साहित्य के प्रति सेवा हेतु 'छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग सम्मान 2010' से सम्मानित किया गया। छत्तीसगढ़ी या छत्तीसगढ़ी से संबंधित किसी भी भाषा की पुस्तकों का क्रय कर संग्रहित करने की योजना 'माई कोठी' की पुस्तकों का क्रय करने की योजना है। छत्तीसगढ़ी के लुप्त होते शब्दों को संग्रहित करने हेतु 'बिजहा कार्यक्रम' प्रारंभ किया गया जिसका उद्देद्गय राज्य के सभी लोगों से प्रचलन से बाहर हो रहे सभी शब्दों को संग्रह करने की योजना है। कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्विद्यालय में पी.जी.डिप्लोमा इन फंक्शनल छत्तीसगढ़ी का पाठ्यक्रम प्रारंभ कराया गया। छत्तीसगढ़ी और सरगुजिहा के बीच अंतरसंबंध विषय पर अंबिकापुर मे संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसी प्रकार माई कोठी योजना के अंतर्गत छत्तीसगढ़ एवं छत्तीसगढ़ी में लिखे साहित्य का एकत्रीकरण किया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ी को राज्य की राजभाषा का दर्जा प्रदान कर छत्तीसगढ़ी के प्रचलन, विकास एवं राजकाज में उपयोग हेतु समस्त उपाय करने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा 'छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग' की स्थापना की गई है। छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ साहित्यकारों को उनकी छत्तीसगढ़ी साहित्य के प्रति सेवा हेतु 'छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग सम्मान 2010' से सम्मानित किया गया। छत्तीसगढ़ी या छत्तीसगढ़ी से संबंधित किसी भी भाषा की पुस्तकों का क्रय कर संग्रहित करने की योजना 'माई कोठी' की पुस्तकों का क्रय करने की योजना है। छत्तीसगढ़ी के लुप्त होते शब्दों को संग्रहित करने हेतु 'बिजहा कार्यक्रम' प्रारंभ किया गया जिसका उद्देद्गय राज्य के सभी लोगों से प्रचलन से बाहर हो रहे सभी शब्दों को संग्रह करने की योजना है।

कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्विद्यालय में पी.जी.डिप्लोमा इन फंक्शनल छत्तीसगढ़ी का पाठ्यक्रम प्रारंभ कराया गया। छत्तीसगढ़ी और सरगुजिहा के बीच अंतरसंबंध विषय पर अंबिकापुर मे संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसी प्रकार माई कोठी योजना के अंतर्गत छत्तीसगढ़ एवं छत्तीसगढ़ी में लिखे साहित्य का एकत्रीकरण किया जा रहा है।

आपके मूल्यवान सुझाव / विचारों के जरिए इसको एक नया आयाम मिलेगा। आपका यह प्रयास एक सराहनीय कदम साबित होगा।

All Comments
#ChhatisgarhMyGov
Reset
94 Record(s) Found
3990

Yashwant Kumar sahu 5 days 12 hours ago

Chhattiagarhi rajbhasha bar sarkar la khude paryas Karna chahiye .Janta Man sochchhe chhattiagarhi ke palan karhi

300

Ravipatel 1 week 1 day ago

छत्तीसगढ़ ये अपन महान संस्कृति आउ धरोहर बर जाने जाथे। इहा के संस्कृति आउ धरोहर ला संजोग के रखे बार पुरखा मन के बड़ उपकार हे। छत्तीसगढी भाषा ला 8 वी अनुसूची में जगह मिलना चाहि। इहा के भोला-भला आदमी मन संस्कृति आउ ला बचाये खातिर बड़ प्रयास करत हे।

500

DHARENDRAKUMARRATHORE 1 week 2 days ago

chhattisgarhi la raj bhasha ke darja bahut hi badiya kam ye au chhattisgarh ma padai ma chhattisgarhi ek bisaya hoy bar rahis

300

DILEEPKUMARANANT 1 month 1 week ago

मोला अपन छत्तीसगढ़िया भाषा अबड्ड अब्बड़ निक लागथे मोर संगवारी मन संग म है

2960

Neetu Sahu 1 month 2 weeks ago

जय जोहार छत्तीसगढ़.
छत्तीसगढ़ ल कोरोना मुक्त बनाये बर मोर
एकठन कविता छत्तीसगढ़ी भाषा म.

220

Nameshwar Banjare 1 month 2 weeks ago

मैं छत्तीसगढ़ राज्य से हूं और मेरे को छत्तीसगढ़ी भाषा बोलना मेरे को बहुत ही अच्छा लगता है हमारे छत्तीसगढी भाषा को संविधान के अन्य 22 भाषाओं की तरह आठवीं अनुसूची में शामिल किया जाना चाहिए और हमारे छत्तीसगढ़ में भी कई प्रकार के लोक गीत है जिसे छत्तीसगढी भाषा में गाया जाता है जैसे करमा गीत पंथी गीत सुवा ददरीया और अन्य गीत है हमारे छत्तीसगढ़ी भाषा में कई प्रकार के कहावतें है जिसे हम अपने छत्तीसगढी भाषा में हाना कहते है और मै छत्तीसगढी भाषा को बोलने मे गर्व महसूस करता हूँ