You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

कक्षा शिक्षण के दौरान टेक्नोलोजी का उपयोग

छ्त्त्तीसगढ़ में स्कूलों में शालाकोश योजना के अंतर्गत टेबलेट का ...

विवरण देखें जानकारी छिपाएँ

छ्त्त्तीसगढ़ में स्कूलों में शालाकोश योजना के अंतर्गत टेबलेट का वितरण किया गया है | वर्तमान में इन टेबलेट के माध्यम से शिक्षकों एवं बच्चों की उपस्थिति ली जा रही है परन्तु धीरे-धीरे इनके उपयोग से कक्षा अध्यापन में भी सहयोग लिया जाएगा | राज्य में शिक्षकों व्दारा टेक्नोलोजी का बेहतर उपयोग किया जाने लगा है | कई शालाओं में शिक्षकों ने स्वयं के व्यय से कम्प्युटर, प्रोजेक्टर आदि क्रय कर बच्चों को पढ़ना शुरू किया है और कई शालाओं में समुदाय ने स्वयं पहल कर शाला के लिए संसाधन जुटाएं हैं | इन शालाओं में शिक्षक अपने प्रयास से स्मार्ट कक्षाओं का संचालन कर रहे हैं |

आपसे अनुरोध है कि आप ऐसे शालाओं के बारे में जानकारी देते हुए इन स्मार्ट कक्षाओं में बच्चों को किस प्रकार से सिखाया जा रहा है, उसका विवरण छायाचित्रों के साथ एक सफलता की कहानी के रूप में अच्छे से दस्तावेजीकरण करते हुए उपलब्ध कराएं | हम ऐसी शालाओं के शिक्षकों को समानित करने के साथ-साथ उनका उन्मुखीकरण करते हुए उन्हें कक्षानुरूप बेहतर डिजिटल संसाधन से लैस करने हेतु आवश्यक कार्यवाहियां करेंगे ताकि अन्य शालाओं को भी ऐसी पहल करने के लिए प्रोत्साहन मिले |

सभी टिप्पणियां देखें
#ArunachalMyGov
Reset
1 रिकॉर्ड मिला है

Leelaram Sahil 9 months 3 weeks पहले

कोरबा जिला के विकासखंड पोड़ी उपरोड़ा अंतर्गत सुदूर ग्रामीण क्षेत्र मेंशासकीय प्राथमिक शाला खुर्रूभांठा संचालित है। 60 दर्ज संख्या पर 2 शिक्षक कार्यरत हैं। शिक्षकों की कमी और अभावों के बिच पढ़ रहे बच्चों के लिए कुछ नया करने की मकसद से शिक्षक श्री लीलाराम साहिल ने स्वयं के व्यय से विद्यालय में स्मार्ट क्लास 14 नवम्बर 2017 से आरम्भ किया है।कमरों को आकर्षक भी बनाया है। लेपटॉप प्रोजेक्टर से पढाई होती है। इस कार्य में शिक्षक ने लगभग 1 लाख 10 हजार से अधिक की राशि अपने वेतन से खर्च किया है।